Explore Bollywoood to hollywood

बॉलीवुड स्टार्स की एकतरफा प्यार की दुखभरी दास्तां

57

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

प्यार एक ऐसा शब्द जिसके मायने हर किसी के लिए अलग अलग होते हैं।कोई इसको दिल से लगा बैठता है तो कोई सिर्फ एजॉमेंट का एक जरिया बना लेता है।आम इंसान से लेकर सेलेब्रेटिज हर कोई जिंदगी के इस दौर से जरुर गुजरता है जब उसको किसी से प्यार हो जाता है।जिसमे वो किसी भी हद से गुजरने की चाहत रखता है।लेकिन कभी-कभी ऐसा भी होता है कि आप जिससे प्यार करते हो वो या तो आपके प्यार से अनजान होता है या फिर उसको आपसे प्यार नहीं होता है लेकिन आप उसको अपना सब कुछ समझने की भूलकर बैठते हैं।ऐसे रिश्ते बहुत दर्द देकर जाते हैं।इससे बॉलीवुड भी अछूता नहीं है।यहां प्यार की कई ऐसी दास्तां हैं जिनकी सच्चाई सुनकर आपकी आंखें भर आएंगी आप सोचने लगेंगे की क्या रिश्ते ऐसे भी होते हैं। कुछ ऐसे ही बॉलीवुड स्टार्स की एकतरफा प्यार की दास्तां से आप को वाकिफ कराते हैं।
गुरुदत्त और वहीदा रहमान

गुरुदत्त और वहीदा रहमान की प्रेम कहानी एक ऐसी दास्तां है जिसका जिक्र आज भी हर महफील में हो ही जाता है।हो भी क्यों नहीं ये दास्तां ही कुछ ऐसी है।एक ओर गुरुदत्त वहीदा रहमान से बेइंतहा मुहब्बत करते थे जबकि खामोश सी रहनेवाली वहीदा के दिल में गुरुदत्त के लिए ऐसा कोई इमोशन नहीं था।ये वो दौर था जब गुरुदत्त का रिश्ते अपनी पत्नी गीता दत्त से बिगड़ रहा था। हालांकि गुरुदत्त गायिका गीता दत्त से 1953 में लव मैरिज किए थे लेकिन ये रिश्ता ज्यादा समय टीक नहीं पाया। से में गुरुदत्त वहीदा रहमान में अपना प्यार तलाशने लगे थे। गुरुदत्त और वहीदा ने एकसाथ कई फिल्में की जिनमे प्रमुख हैं




1957 में आई प्यासा,1959,1960 में चौदहवीं का चांद,1962 में साहब बीबी और गुलाम।गीता से अलग होने और वहीदा के उनके प्यार को ना अपनाने के कारण गुरुदत्त डिप्रेशन में आ गए थे और बेइंतहा शराब पीने लगे थे।कहते हैं कि अपनी लाइफ से परेशान होकर ही गुरुदत्त सुसाइड कर लिए थे।
संजीव कुमार हेमा मालिनी

संजीव कुमार और हेमा मालिनी की  प्रेम कहानी भी एकतरफा और दुखभरी दास्तां है।संजीव कुमार हेमा मालिनी से बेहद प्यार करते थे लेकिन हेमा संजीव कुमार को कभी भी उस नजरिए से नहीं देखी।आलांकि दोनों एकसाथ कई फिल्मों में भी काम किए। इनमे कुछ फिल्में बॉक्स ऑफिस पर हिट रही है जिनमे 1972 में आई सीता और गीता,




1975 में आई सुपर हीट फिल्म शोले भी है।संजीव कुमार हेमा से इतना प्यार करते थे कि वो हेमा के घर शादी का प्रस्ताव भी भिजवाए थे लेकिन हेमा ने इंकार कर दिया था। बाद में हेमा धर्मेंद्र से लव मैरिज कर ली थी।हेमा की बेवफाई ने संजीव कुमार को पूरी तरह तोड़ दिया था।इसके बाद संजीव कुमार आजीवन कुंवारा रहें।अपने गम को भूलाने के लिए संजीव कुमार ने खुद को शराब में डुबो लिया और 47 वर्ष में ही उनकी मृत्यु हो गई।

सुलक्षणा पंडित और संजीव कुमार

ये भी अजीब दास्तां है एकतरफ संजीव कुमार हेमा के प्यार में दिवाने थे वहीं दुसरी तरफ सुलक्षणा पंडित संजीव कुमार को अपना दिल दे बैठी थी।सुलक्षणा ने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत सिंगर एंड एक्ट्रेस  के तौर पर की थी।सुलक्षण के फिल्मी करियर की शुरुआत 1975 में फिल्म उलझन से हुई थी।




किस्मत से फिल्म में उनके को स्टार थे संजीव कुमार।बाद में ये जोड़ी कई फिल्मों में एकसाथ काम की जिनमे प्रमुख हैं 1976 में हेरा-फेरी,1979 में खानदान,1982 में वक्त की दिवार।सुलक्षणा अपने प्यार का इजहार संजीव कुमार से की थीं लेकिन संजीव कुमार ने उनके प्यार को ठुकरा दिया था।संजीव की बेवफाई से परेशान सुलक्षणा डिप्रेशन में चली गई थी।47 साल के उम्र में जब संजीव कुमार की मौत हुई तो सुलक्षणा इस सदमा को बर्दाश्त नहीं कर पाई और पागल हो गई।
उर्मिला मातोंडकर और राम गोपाल वर्मा

एक समय ऐसा था कि रामू और उर्मिला की लव स्टोरी की चर्चा बॉलीवुड में हर किसी के जुबान पर थी।कहा तो यहां तक जाता था कि राम गोपाल वर्मा उर्फ रामू अपनी फिल्म में उर्मिला के अलावे किसी को हिरोइन लेना ही नहीं चाहते हैं।जब इसकी वजह तलाशी गई तो  पता चला की रामू तो उर्मिला के प्यार में गिरफ्तार थे।खबरों के मुताबिक जब राम गोपाल वर्मा ने उर्मिला को प्रपोज किया तो उर्मिला ने इंकार कर दिया था और राम गोपाल के साथ काम करना भी बंद कर दिया।वैसे उसके पहले उर्मिला और राम गोपाल की जोड़ी ने कई हीट बॉलीवुड फिल्में दी।1995 में रंगीला,1997 में दौड़,1998 में सत्या.1999 में मस्त,2000 में जंगल और 2003 में भूत।ये प्यार भी एकतरफा था और इसका भी अंत बड़ा ट्रेजिक हुआ।2016 में उर्मिला ने एक कश्मीरी बिजनेसमैन से शादी कर ली।
ट्वीकंल खन्ना और करण जौहर

एकबार बातचित करते हुए करण जौहर ने अपने एकतरफा प्यारा की दास्तां सुनाई थी।दरअसल करण जौहर मन ही मन में ट्वींकल खन्ना से प्यार करते थे।करण अपने प्यार के साथ जीने के सपने भी देखने लगे थे।करण बोले की लोग कहते हैं कि हिंदी सिनेमा थिएट्रिकल और ड्रामेटिक होता है लेकिन ऐसा नही है रियल लाइफ में भी ऐसा होता है।अपने दर्द को बयान करते हुए करण ने कहा कि मै उस मंडप में बैठा था जहां मेरा प्यार मुझसे जुदा हो रहा था वो किसी और का हो रहा था।करण ट्वींकल और अक्षय की शादी की बात कर रहे थे।इसबात को ट्वींकल ने भी स्वीकार किया है।ट्वींकल बताती हैं कि करण उनको टीनएज से ही पसंद करते थे प्यार करते थे लेकिन उनको कभी भी करण से प्यार नहीं था।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.